छावनी परिषद कार्यालय, रानीखेत


जिला अल्मोड़ा,

पिन कोड 263645 उत्तराखण्ड


दूरभाष संख्या 05966 220228


फैक्स संख्या 05966 220614

पूछताछ



ई-मेल ceoranikhet@gmail.com


कुमाऊँ क्षेत्र के पहाड़ों की रानी ’रानीखेत’ उत्तराखण्ड राज्य के अल्मोड़ा जिले में स्थित है जो कि इसके सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन ’काठगोदाम’ से 84 किमी0 की दूरी पर तथा समुद्र तल से 6000 फीट की ऊँचाई पर स्थित है। रानीखेत कैन्टोनमैन्ट प्राधिकरण वर्ष 1869 में स्थापित किया गया तथा इसके प्रशासनिक अधिकारी केा ’कैन्टोनमेन्ट मजिस्ट्रेट’ तथा उसके कार्यालय को ’कैन्टोनमैन्ट कोर्ट, या स्थानीय भाषा में कैन्टोनमैन्ट कचहरी के नाम से जाना जाता था। कैन्ट बोर्ड एक्ट को भारत सरकार द्वारा 1924 में परित किया गया। यह एक्ट हाल ही में कैन्टोनमैन्ट एक्ट (संशोधन) 2006 द्वारा संशोधित किया गया। कैन्टोनमैन्ट समिति की कार्यप्रणाली का विवरण कैन्टोनमैन्ट बोर्ड आफिस में सन् 1869 से उपलब्ध है। 1870 में सैनिकों के आवास के लिए लम्बी झोपडि़याँ बनवायी गयीं तथा प्रथम रायल स्काउट्स एवं 34 हैम्पसायर रेजिमेन्ट की छावनी को यहाँ भेजा गया जिन्होने यहाँ पर सैनिकों के आवास के लिए छावनी के निर्माण के लिए स्थान की सफाई व भूमि को समतल करने तथा सड़क निर्माण का कार्य किया। प्राचीन इतिहास के अनुसार 1056 ई0 पूर्व के बाद सन् 1790 तक अल्मोड़ा में कत्यूरी एवं चन्द राजाओं का राज्य था। रानीखेत शहर के नाम से उद्गम के सम्बन्ध में दो कथाऐं प्रचलित हैं।

और देखे .....

...प्रथम कथा के अनुसार कत्यूरी वंष के राजा सुधारदेव (1180) की पटरानी ’पत्नी’ ने इस स्थान को शिक्षा क्रीड़ा तथा आवास के लिए चयनित किया था। अतः इसे रानीखेत कहा गया। दूसरी कथा के अनुसार इस स्थान पर कई युद्ध लड़े गये और यह एक रणक्षेत्र था। रानीखेत का शाब्दिक अर्थ ’रानीखेत’ है। रानी शब्द प्रकृति का प्रतीक है यद्यपि पौराणिक मान्यताओं के अनुसार द्वाराहाट की कत्यूरी वंष की महारानी पद्मिनी के रानीखेत क्लब के नजदीक बगीचे थे तथा उन्होने वहाँ पर कुमपुर या कत्यूरी बाजार स्थापित किया ’जिसे बाद में बी0आई0 बाजार या ’ब्रिटिश इन्फेन्ट्री बाजार’ या लालकुर्ती कहा गया।

सामग्री छुपाएँ।

दर्शनीय स्थल




वेबसाइट अद्यतन 01/01/2017    आगंतुक   संख्या